टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी

आपके जीवन में सबसे अधिक महत्वपूर्ण लोगों के प्रति एक प्रतिबद्धता

जीवन के हर पहलू पर तो आपका नियंत्रण नहीं है, लेकिन कुछ चीजें आप नियंत्रित कर सकते हैं। एक टर्म प्लान, जो आपको ऐसा करने में सहायता करे

इस श्रेणी में आने वाले उत्पाद इस प्रकार हैं। अब नियंत्रण लेने का समय है!

इंडियाफर्स्ट के टर्म प्लान को क्यों चुनें?

  • पूरा आराम

    एक ऐसा भुगतान विकल्प चुनें, जो आपके नकदी प्रवाह (कैश-फ्लो) के अनुरूप है, और उसके अनुसार प्रीमियम भुगतान विकल्प हैं।

  • त्वरित दावा सेवाएं

    हम आपके समय एवं सुविधा को सबसे अधिक महत्व देते हैं।

  • मन की शांति

    अपने परिवार को वित्तीय रूप से सुरक्षित करके आपको मन की पूरी शांति मिलेगी, और वे ठीक वैसे ही जीवनयापन करेंगे, जैसा आपके सामने करते।

  • आपकी आवश्यकताओं के अनुरूप सुरक्षा

    हर परिवार अद्वितीय है, और उनकी वित्तीय आवश्यकताएं भी! हमारे प्लान खासतौर पर आपकी आवश्यकता के अनुरूप हैं।

  • कर लाभ

    आप जिस प्रीमियम का निवेश करेंगे, वर्तमान आयकर कानूनों के अनुसार धारा 80सी तथा धारा 10 (10डी) के अन्तर्गत उस पर और उसकी परिपक्वता पर भी आपको कर लाभ मिलेगा।

  • कोविड-19 के क्लेम* कवर्ड हैं

    टर्म इंश्योरेंस आपको सभी अनिश्चितताओं समेत विभिन्न अति-गम्भीर रोगों एवं कोविड-19 के विरुद्ध कवर रखता है।

विचार करने वाले कुछ कारक

  • कवरेज आवश्यकता

  • अपने जीवन के चरण पर विचार करें

  • पॉलिसी के लाभों को समझें

  • दावा निपटान (क्लेम सैटलमेन्ट)

  • ग्राहक सेवा

  • इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से खरीदा जा सकता है।

टर्म इंश्योरेंस क्या है?


एक टर्म इंश्योरेंस प्लान या टर्म कवर के साथ आप एक निश्चित समय अवधि या 'टर्म' के लिए कवरेज प्राप्त कर सकते हैं, इसके बदले में आपको उस अवधि के दौरान एक निश्चित प्रीमियम राशि का भुगतान करना होता है। यह जीवन बीमा पॉलिसी, यदि टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में निर्दिष्ट समय-अवधि के दौरान बीमित व्यक्ति की मृत्यु होती है तो ऐसे में उसके नामितों / परिजनों को एक मृत्यु लाभ भुगतान की गारंटी देती है।

वर्तमान कोविड 19 वैश्विक-महामारी की अनिश्चितता एवं वित्तीय तनाव के चलते यह सुनिश्चित करना और भी जरूरी हो गया है कि आने वाले कल में आपके प्रियजनों का ध्यान रखा जाए। टर्म प्लान आपको ठीक ऐसा करने में सहायता करता है। टर्म इंश्योरेंस प्लान आईआरडीएआई (भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण) के अन्तर्गत विनियमित होते हैं, ये निर्दिष्ट शर्तों के अन्तर्गत एक सुनिश्चित भुगतान प्रदान करते हैं।

टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी कैसे काम करती है?


आप कौन सा टर्म प्लान चुनते हैं, उसके आधार पर पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में उसके नामिती को एक मुश्त धनराशि प्रदान की जाती है। भुगतान की लाने वाली एकमुश्त धनराशि में परिवर्तन करके आप मासिक आय लाभ प्राप्त करना भी चुन सकते हैं। एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में विस्तार करके राइडर शामिल किए जा सकते हैं, जिससे आपको मामूली भुगतान पर शारीरिक विकलांगता, अति-गम्भीर रोग अथवा दुर्घटना मृत्यु की स्थिति में बेहतर टर्म प्लान लाभ एवं आय रिप्लेसमेन्ट मिल सकते हैं।

टर्म कवर की आवश्यकता किसे होती है?


वैसे तो सभी लोगों के पास एक टर्म कवर होना चाहिए, यह ऐसे लोगों के लिए बहुत जरूरी है, जिनके ऊपर कुछ लोग निर्भर होते हैं। इसमें विवाहित युगल, ऐसे लोग जिनके ऊपर माता-पिता निर्भर होते हैं, ऐसे माता-पिता जिनके ऊपर बच्चे निर्भर होते हैं, स्व-नियोजित व्यक्ति, व्यवसायी, तथा अन्य करदाता शामिल हैं। इसके कारण इस प्रकार हैं:

  • नव-विवाहित युगल: विशेष अवसरों पर महंगे उपहारों पर खर्च करने से पहले अपने और अपने जीवनसाथी के लिए एक ऐसे उपचार पर विचार करें जिससे आपको मन की शांति और वित्तीय सुरक्षा मिलेगी - एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी। घर के मुख्य धनोपार्जक की मृत्यु की स्थिति में परिवार को अथाह शोक के साथ ही साथ धन की कमी से भी जूझना पड़ेगा। तात्कालिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक मुश्त धनराशि के साथ ही साथ नियमित मासिक भुगतान के विकल्प के साथ आपके जीवनसाथी और आपके ऊपर निर्भर लोगों को जरूरत के समय सहायता मिल सकेगी। अपने जीवनसाथी को पहले उपहार के रूप में एक टर्म पॉलिसी दें, जिससे उन्हें यह संदेश मिले कि आप आज, कल और हमेशा उनका भला चाहते हैं।
  • माता-पिता: बच्चों का लालन-पालन आसान नहीं है, और उनकी जरूरतों को पूरा करने की लागत समय के साथ बढ़ती ही जा रही है। डायपर से लेकर स्कूल के खर्चे, विश्वविद्यालय की महंगी फीस से लेकर जीवनयापन के खर्चे, और ऐसे ही अनेकों खर्चे जिनकी कोई गिनती नहीं है।/ वित्तीय सुरक्षा की हानि आपके बच्चों के सपनों को किस प्रकार से प्रभावित करेगी? बच्चों के लालन-पालन में एक प्रमुख जिम्मेदारी यह सुनिश्चित करना है कि आपकी अनुपस्थिति में आपके बच्चों को किसी प्रकार की कोई कमी ना होने पाए। एक टर्म पॉलिसी यह सुनिश्चित करती है कि यदि आप ना भी रहे, तो भी आपके बच्चों के पास वित्तीय सुरक्षा रहेगी ताकि वे अपने जीवन के लक्ष्यों को पूरा कर सकें।
  • एकल / युवा प्रोफेशनल: यदि कोई व्यक्ति आपके ऊपर निर्भर नहीं है, तो क्या आपको टर्म प्लान खरीदना चाहिए? हाँ, टर्म पॉलिसी के ऐसे बहुत सारे लाभ हैं, जिसके चलते एकल एवं युवा प्रोफेशनल को इसे अवश्य ही खरीदना चाहिए। अति-गम्भीर रोग केवल बुजुर्गों की ही समस्या नहीं है — हार्ट अटैक से लेकर तनाव-सम्बन्धित स्वास्थ्य-स्थितियों का जोखिम 40 वर्ष से कम आयु वाले लोगों पर भी बहुत अधिक होता है। इसके अलावा जीवन के शुरुआत में ही एक टर्म प्लान लेने का अर्थ है कि आप उसी कवरेज के लिए कम प्रीमियम का भुगतान करेंगे, और टैक्स में पैसे की बचत करेंगे (80सी के अन्तर्गत)।
  • कामकाजी महिलाएँ: कामकाजी महिलाओं के ऊपर अपने परिवार के वित्तीय स्वास्थ्य ध्यान रखने की जिम्मेदारी होती है। अपने स्वयं के बच्चों एवं जीवन-साथी के अलावा आप अपने माता-पिता को भी नामिती बनाकर उनकी वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं। एक क्रिटिकल इलनेस राइडर के साथ, गम्भीर और आम रोग जैसे कि सर्वाइकल एवं स्तन कैंसर को आपके टर्म इंश्योरेंस प्लान से मिलने से पैसे की सहायता से बेहतर तरीके से प्रबन्धित किया जा सकता है।
  • सेवानिवृत्ति लोग: एक टर्म प्लान सेवानिवृत्ति लोगों के लिए एक समझदारी भरी पसंद है, जिनके ऊपर कोई निर्भर व्यक्ति है। आयकर अधिनियम 1961 की धारा 10(10डी) के अन्तर्गत निर्धारित शर्तों के विषयाधीन, टर्म इंश्योरेंस के पे-आउट कर-मुक्त होते हैं, इसका अर्थ है कि आप अपने बच्चों के लिए एक विरासत छोड़ सकते हैं, भले ही आपने अभी तक धन की बचत ना की हो।
  • करदाता: भले ही आप स्व-नियोजित हों अथवा सेवा में हों, टर्म इंश्योरेंस प्लान सभी करदाताओं के लिए एक समझदारी भरा निवेश है। आप जो प्रीमियम जमा करेंगे, उसके लिए धारा 80C के अन्तर्गत कटौती मिलेगी, जिससे आपका कर का बोझ कम हो जाएगा।

टर्म इंश्योरेंस की क्या विशेषताएं हैं?


अनिश्चितता ही जीवन में एकमात्र निश्चितता है। असामयिक मृत्यु, दुर्घटना, विकलांगता, तथा रोगों की सम्भावना हमेशा मौजूद होती है, भले ही हम उनके बारे में सोचें या ना सोचें। ऐसी स्थिति में आपके परिजनों तथा उनके सपनों का क्या होगा? यह एक ऐसी स्थिति है, जिसके आप सही टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के माध्यम से नियंत्रित कर सकते हैं।

एक किफायती प्रीमियम के बदले में एक महत्वपूर्ण जीवन बीमा कवर पाएं। अपने प्रीमियम को और भी कम करने के लिए एक युवा आयु में टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लें।

कुछ टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में अतिरिक्त लाभ होते हैं, जैसे कि अति-गम्भीर रोगों के लिए कवर। इससे यह सुनिश्चित होगा कि यदि आपको इन पूर्व-निर्धारित रोगों में से कोई रोग होता है, तो आप खर्चे की चिंता किए बिना अच्छी चिकित्सा पा सकते हैं।

एक किफायती प्रीमियम के बदले में एक महत्वपूर्ण जीवन बीमा कवर पाएं। अपने प्रीमियम को और भी कम करने के लिए एक युवा आयु में टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लें।

  • किफायती दरों पर उच्च कवर: एक किफायती प्रीमियम के बदले में एक महत्वपूर्ण जीवन बीमा कवर पाएं। अपने प्रीमियम को और भी कम करने के लिए एक युवा आयु में टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लें।
  • प्रमुख अति-गम्भीर रोगों को कवर करने का विकल्प: कुछ टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में अतिरिक्त लाभ होते हैं, जैसे कि अति-गम्भीर रोगों के लिए कवर। इससे यह सुनिश्चित होगा कि यदि आपको इन पूर्व-निर्धारित रोगों में से कोई रोग होता है, तो आप खर्चे की चिंता किए बिना अच्छी चिकित्सा पा सकते हैं।
  • टुकड़ों में मासिक भुगतान तथा/अथवा एकमुश्त धनराशि: निर्भर व्यक्ति / नामिती को एकमुश्त लाभ राशि मिलती है अथवा एकमुश्त धनराशि के अलावा एक नियमित मासिक भुगतान मिलता है, जो आपकी टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी की शर्तों के ऊपर निर्भर करता है।
  • वैकल्पिक विकलांगता तथा दुर्घटना मृत्यु टर्म प्लान लाभ: अप्रत्याशित दुर्घटनाओं के कारण स्थायी अथवा अस्थायी विकलांगता हो सकती है, और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है। आपकी टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में एक वैकल्पिक विकलांगता अथवा दुर्घटना मृत्यु राइडर जोड़ने के द्वारा आप ऐसी किसी परिस्थिति में वित्तीय सहायता पा सकते हैं।
  • टर्म कवर के लिए जमा किए गए प्रीमियम तथा सम एश्योर्ड पर धारा 80C के अन्तर्गत कर लाभ: टर्म इंश्योरेंस प्लान में, आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80C के अन्तर्गत निर्धारित कर लाभ मिलते हैं। इसके अलावा एक टर्म प्लान के अन्तर्गत जारी की जाने वाली अन्तिम लाभ राशि धारा 10(10डी) के अन्तर्गत कर-मुक्त होती है।
  • दीर्घकालिक कवर: 99 वर्ष# तक की आयु के लिए लाइफ कवर के लाभों का आनंद लें भिन्न प्रीमियम भुगतान विकल्प
    सुविधाजनक प्रीमियम भुगतान समय-अन्तराल चुनें—मासिक, त्रैमासिक, अर्द्धवार्षिक, वार्षिक, अथवा एकल प्रीमियम का एकबार में भुगतान।
  • देयता लाभ: एक टर्म पॉलिसी के अन्तर्गत आपके ऊपर निर्भर व्यक्तियों को मिलने वाली एकमुश्त धनराशि की सहायता से वे आपके किसी भी लोन, ऋण अथवा देयताओं को एक बार में चुका सकते हैं।

आपको टर्म इंश्योरेंस की जरूरत क्यों है?


यह एक स्वाभाविक प्रश्न है “इससे मुझे क्या लाभ है?” तो एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी से आपको क्या लाभ मिलने वाला है? आपके उत्तर यहां हैं:

  • आपके परिवार को वित्तीय रूप से सुरक्षित रखना :एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी आपके परिवार तथा आपके ऊपर निर्भर व्यक्तियों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है, यदि प्रमुख धनोपार्जक / पॉलिसी धारक की असामयिक मुत्यु हो जाए तो। हमारा सुझाव है कि आप आप अपनी वार्षिक आय से 10-20x का टर्म कवर लें।
  • कम प्रीमियम :दूसरे बीमा प्लान जिसमें एक निवेश घटक होता है, उनकी तुलना में टर्म इंश्योरेंस प्लान सरल, सीधे और प्रभावी होते हैं। निवेश घटक ना होने के परिणामस्वरूप इनका प्रीमियम भी कम होता है। एक कम आयु में टर्म इंश्योरेंस प्लान लेने के द्वारा इस प्रीमियम राशि को और भी कम किया जा सकता है।
  • आपकी परिसम्पत्तियों की सुरक्षा :आपके जीवन-लक्ष्य खरीदारियां, जैसे कि घर, कार, या बच्चों की शिक्षा लोन के माध्यम से पूरी हो जाती हैं। एक टर्म इंश्योरेंस भुगतान के लाभ से उन्हें कवर करने के द्वारा आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आपकी अनुपस्थिति में ये आपके परिवार के लिए कोई दायित्व ना बनें।
  • आपके परिवार की जीवनशैली की सुरक्षा: आपके परिवार को एक निश्चित तरीके से जीने की आदत होती है। सुनिश्चित करें कि आपकी अनुपस्थिति में भी आपके परिवार के जीवन स्तर में कोई कमी ना आए। नियमित मासिक आय तथा/अथवा एक मुश्त धनराशि से आपके प्रियजन सुरक्षित रहेंगे।
  • कोविड 19 क्लेम* कवर्ड हैं :इस वैश्विक महामारी के चलते लाखों लोगों को अपना जीवन गंवाना पड़ा है। आपके टर्म कवर में एक अति-गम्भीर रोग एवं कोविड 19 राइडर से आपको मन की शांति एवं बीमा लाभ मिलेंगे।
  • जीवन की निश्चितताओं को पूरा करना :जीवन में अनिश्चितताओं की उपस्थिति एक निश्चितता है। भय एवं भ्रम में रहने के बजाय, आप टर्म इंश्योरेंस प्लान के साथ जीवनभर आत्मविश्वास के साथ रहना सुनिश्चित कर सकते हैं, जो आपको किसी भी परिस्थितियों में कवर्ड रखेगा।

टर्म इंश्योरेंस कैसे खरीदें?


  • तय करें कि आपको कितनी कवरेज की आवश्यकता है:टर्म इंश्योरेंस खरीदते समय सबसे महत्वपूर्ण चरण यह कैलक्युलेट करना है कि आपको कितनी धनराशि के कवरेज की आवश्यकता है। आपको स्वयं को आवश्यकता से कम बीमित रखने की गलती नहीं करनी चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से एक टर्म प्लान में निवेश करने का उद्देश्य पूरा नहीं होगा। आपकी आयु बढ़ने के साथ ही आपकी जीवनशैली की आवश्यकताएं भी बदलती हैं, पर्याप्त लाइफ कवर लेने के द्वारा आपके परिवार का सुरक्षित रखना एक समझदारी भरा कदम होगा। आपको कितना कवर लेना चाहिए, यह जानने के लिए आपको हमारे प्लान कैलक्युलेटर का प्रयोग करना चाहिए।
  • अपने जीवन-चरण पर विचार करें:आपकी जीवन बीमा आवश्यकताएं तथा वरीयताएं जीवन के हर चरण पर भिन्न-भिन्न होती हैं; इसलिए टर्म प्लान खरीदने से पहले यह समझना महत्वपूर्ण है कि आप जीवन के किस चरण में हैं। अपने परिवार के आश्रित सदस्यों को ध्यान में रखें, इससे आप यह निश्चित कर पाएंगे कि आपको कितना धन निवेश करने की आवश्यकता है। आपके जीवन चरण के आधार पर आपकी वित्तीय जिम्मेदारियां भी भिन्न होंगी। साथ ही एक अनुमानित सम एश्योर्ड जानने के लिए अपनी वार्षिक आय एवं धूम्रपान आदतों को ध्यान में रखें।
  • पॉलिसी के लाभों को समझें:अपनी आवश्यकताओं तथा कम्पनी के ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर पॉलिसी के बारे में निर्णय लेने के बाद पॉलिसी की विशेषताओं समझने के लिए समय निकालें। पॉलिसी के टर्म, प्रीमियम भुगतान टर्म, सम एश्योर्ड तथा लाभों की जांच एवं मूल्यांकन करना सुनिश्चित करें। पॉलिसी पुस्तिका / प्रस्ताव प्रलेख को अनदेखा ना करें, उन्हें बहुत ही सावधानी से विस्तारपूर्वक पढ़ें। आप महत्वपूर्ण राइडर्स जोड़ सकते हैं जैसे कि अति-गम्भीर रोग लाभ, दुर्घटना मृत्यु तथा विकलांगता लाभ, ताकि आपको हमारे टर्म प्लान से अधिकतम लाभ मिल सके।
  • कोटेशन पाएं:अपने लिए सही टर्म कवर चुनने के बाद कुछ ही क्लिक में एक प्रीमियम कोटेशन पाएं। कुछ बुनियादी जानकारी जैसे कि आपकी आयु दें और अपने सम एश्योर्ड तथा कवर्ड वर्षों की अवधि चुनें तथा एक त्वरित प्रीमियम कोटेशन पाएं।
  • कवर आरम्भ करने के लिए अपने प्रीमियम का भुगतान करें: जब आप टर्म प्लान और लाभों से संतुष्ट हो जाएं, तो आप अतिरिक्त विवरण ऑनलाइन भरने तथा प्रीमियम का ऑनलाइन भुगतान करने के द्वारा अपने टर्म कवर को ऑनलाइन आरम्भ कर सकते हैं। हमारी टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए जरूरी दस्तावेजों को ऑनलाइन सबमिट करने द्वारा अपने एप्लिकेशन को पूर्ण करें।

आपको इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस टर्म प्लान क्यों चुनने चाहिए?


टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के पीछे एक प्रमुख उद्देश्य यह होता है कि किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति के लिए आपके पास मन की शांति होती है — आप किसी संदेह से परे जानना चाहते हैं कि आपकी अनुपस्थिति में आपका परिवार वित्तीय रूप से सुरक्षित और प्रोटेक्टेड रहेगा। इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस पर आप ही के जैसे 5.5 मिलियन ग्राहक भरोसा करते हैं, तथा हम 100% जेनुइन क्लेम सैटलमेन्ट का गारंटी देते हैं।

आपके टर्म प्लान प्रकार, राइडर तथा प्रीमियम विकल्पों को चुनने के मामले में आपके पास पूरी फ्लेक्सिबिलिटी है। हम आपके टर्म प्लान की सभी आवश्यकताओं को पूरा करते हैं, इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस टर्म इंश्योरेंस उत्पादों में शामिल है:

  • ऑनलाइन टर्म प्लान
  • इंडियाफर्स्ट लाइफ प्लान
  • इंडियाफर्स्ट लाइफ गारन्टीड प्रोटेक्शन प्लान

इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस के पास बैंक ऑफ बड़ौदा तथा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों का समर्थन है, हम आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण लोगों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करने की आपकी प्रतिबद्धता में मजबूती से आपके साथ खड़े हैं।

जीवन में पसंद ही सब कुछ है, और इस बात का कोई कारण नहीं है कि आपका टर्म कवर आपको यह ना प्रदान करे। इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस के साथ विभिन्न प्रीमियम भुगतान अवधियों, राइडर्स, तथा पे-आउट विकल्पों में से चुनें — अपने और अपने परिवार के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्णय लें।

एक नमूना पॉलिसी दस्तावेज को विस्तार से देखें, इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस टर्म प्लान ब्रॉशर को देखें, कोटेशन पाएं और अपने प्रीमियम का ऑनलाइन भुगतान करें। इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस आरम्भ से लेकर अंत तक आपको अपनी टर्म पॉलिसी ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से खरीदने की सुविधा प्रदान करता है।

इंडियाफर्स्ट लाइफ अपनी सभी व्यावसायिक गतिविधियों में 'ग्राहक सर्वप्रथम' सिद्धांत का अनुसरण करता है। हमारा लक्ष्य है कि सरल, आसानी से समझ में आने वाले जीवन बीमा योजना प्रदान की जाए, जिसमें एक किफायती मूल्य पर वास्तविक लाभ हों। हमारा क्लेम सैटलमेन्ट रेशियो 96.65% (व्यक्तिगत क्लेम) है, इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस 100% जेनुइन क्लेम सैटलमेन्ट की गारन्टी देता है।

  • 5.5 मिलियन इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस ग्राहकों के साथ जुड़ें।
  • 100% जेनुइन क्लेम सैटलमेन्ट
  • फ्लैक्सिबल टर्म प्लान विकल्प
  • बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा समर्थित
  • प्रीमियम भुगतान अवधियों एवं भुगतानों का विकल्प
  • अपनी पॉलिसी ऑनलाइन और ऑफलाइन पाएं
  • त्वरित तथा किसी झंझट के बिना क्लेम सेवा

टर्म प्लान पॉलिसी के लिए इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस पात्रता मानदण्ड क्या हैं?


  • इसमें आवेदन करने की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 60 वर्ष* है/li>
  • इस प्लान के अंत में अधिकतम आयु 99 वर्ष# है#
  • न्यूनतम सम एश्योर्ड रु 1,00,000. अधिकतम सम एश्योर्ड: रु 5,00,00,000

अधिकांश जीवन बीमा कम्पनियां 5 से 40 वर्ष के बीच में पॉलिसी अवधि देती हैं। अपनी सेवानिवृत्ति आयु को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। भारत में सेवानिवृत्ति की सामान्य आयु 60 वर्ष है। इसलिए यदि आप सेवानिवृत्ति तक कवर के लिए इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस टर्म पॉलिसी लेते हैं, तो उस समय तक आपकी वित्तीय जिम्मेदारियां पूरी हो जाने की सम्भावना रहेगी।

FAQs

  • मुझे एक टर्म प्लान में कितना लाइफ कवर खरीदना चाहिए?

    आपका लाइफ कवर इतना पर्याप्त होना चाहिए कि उससे आप अपने सभी ऋण एवं लोन का भुगतान कर सकें और वह आपकी आय का काम भी करे, खासतौर पर यदि आप ही अपने परिवार के एकमात्र धनोपार्जन करने वाले व्यक्ति हैं। अपनी वार्षिक आय को पॉलिसी में जोड़ने से आप मुद्रास्फीति के विरुद्ध एक प्रभावी सुरक्षा कवच पा सकते हैं। अपने भविष्य के दायित्वों को ध्यान में रखते – जैसे कि अपने बच्चे की शिक्षा तथा अपने जीवनसाथी का स्वास्थ्य।

  • मुझे किस आयु में एक टर्म इंश्योरेंस खरीदना चाहिए?

    टर्म इंश्योरेंस खरीदने की कोई 'सही आयु' नहीं है, आपकी न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए। शीघ्र आरम्भ करना एक समझदारी भरा निर्णय है। यदि आपकी एक सुनिश्चित आय है, जो आपको समय पर प्रीमियम भुगतान करने में समर्थ बनाती है, तो आप अपने परिवार के भविष्य में निवेश करने के लिए तैयार हैं। यदि आप विवाहित हैं, आपके बच्चे या माता-पिता हैं, जो आपके ऊपर आश्रित हैं, तो आपको निश्चित रूप से एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने पर विचार करना चाहिए। आपकी आयु बढ़ने के साथ ही भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम बढ़ते हैं।

  • मेरे टर्म प्लान की अवधि कितनी होनी चाहिए?

    आपको प्लान के अन्तर्गत उपलब्ध अधिकतम टर्म चुनना चाहिए, ताकि आपके प्रियजनों के लिए वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

  • यदि मैं टर्म प्लान की अवधि तक जीवित रहता हूं, तो क्या मुझे कोई परिपक्वता लाभ मिलेगा?

    टर्म प्लान का मुख्य पहलू यह सुनिश्चित करना है कि आपके जाने के बाद भी आपके प्रियजन वित्तीय रूप से सुरक्षित रहें। वैसे इसमें पॉलिसीधारक के जीवित रहने की स्थिति में कोई एकमुश्त भुगतान नहीं होता है।

  • क्या पॉलिसी की अवधि के दौरान मेरी प्रीमियम धनराशि में अंतर आएगा?

    प्लान की समग्र अवधि के दौरान आपकी प्रीमियम धनराशि एकसमान रहेगी। आपके प्रीमियम में आने वाला एकमात्र बदलाव है - सेवा कर विनियमों में आने वाले वाला बदलाव, जो भारत सरकार द्वारा घोषित किया जाता है।

  • मैं कभी-कभी ही धूम्रपान करता हूं। क्या फिर भी मुझे अपने आपको एक तम्बाकू उपयोगकर्ता घोषित करने की आवश्यकता है?

    हां, यदि आप कभी-कभी ही धूम्रपान करते हैं, तो भी आपको अपने आपको तम्बाकू उपयोगकर्ता घोषित करने की आवश्यकता है। यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि पॉलिसी हेतु सही प्रीमियम का निर्धारण करने के लिए समग्र चिकित्सीय इतिहास बहुत महत्वपूर्ण है।

  • मैं कभी-कभी ही धूम्रपान करता हूं। क्या फिर भी मुझे अपने आपको एक तम्बाकू उपयोगकर्ता घोषित करने की आवश्यकता है?

    हां, यदि आप कभी-कभी ही धूम्रपान करते हैं, तो भी आपको अपने आपको तम्बाकू उपयोगकर्ता घोषित करने की आवश्यकता है। यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि पॉलिसी हेतु सही प्रीमियम का निर्धारण करने के लिए समग्र चिकित्सीय इतिहास बहुत महत्वपूर्ण है। किसी ऐसी सूचना को छिपाने से आगे चलकर क्लेम सैटलमेन्ट में बाधा आ सकती है।

  • एक लाइफ इंश्योरेंस टर्म प्लान पर कितना खर्च आता है?

    टर्म प्लान की लागत विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि पॉलिसी धारक की आयु, स्वास्थ्य स्थिति, धूम्रपान स्थिति, वार्षिक आय, साथ ही साथ चयनित धनराशि तथा बीमा कवरेज की अवधि।

    उदाहरण के लिए, इंडियाफर्स्ट लाइफ ई-टर्म प्लान को खरीदना - 40 वर्षों की पॉलिसी अवधि के लिए 1 करोड़ के टर्म प्लान को खरीदने पर एक 30 वर्षीय पुरुष जो धूम्रपान नहीं करता है के लिए रु 8,260 की वार्षिक लागत होगी। एक 40 वर्षीय पुरुष जो धू्म्रपान नहीं करता है के लिए, 30 वर्ष के लिए 1 करोड़ के टर्म इंश्योरेंस प्लान की लागत रु 14,750 होगी - आप जितनी अधिक जल्दी टर्म कवरेज लेते हैं, यह आपके लिए उतना ही सस्ता होगा।

  • यदि मेरी मृत्यु प्राकृतिक कारणों से होती है — तो क्या वह टर्म पॉलिसी में कवर्ड होगा?

    एक टर्म प्लान की यह विशेषता है कि मृत्यु चाहे प्राकृतिक रूप से हो या दुर्घटनावश हो, पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में उसके परिवार को एकमुश्त धनराशि का भुगतान किया जाता है। टर्म इंश्योरेंस का यह लाभ है कि आपके परिवार को एक निश्चित धनराशि मिलेगी, मृत्यु का कारण चाहे जो भी हो।

    वैसे, मामले में कुछ विशेष स्थितियों की जांच की जाती है, जैसे कि क्या बीमित व्यक्ति ने आत्महत्या की थी अथवा क्या किसी तथ्य को छिपाया गया था। सम्भावित अपवर्जनाओं के बारे में जानने के लिए पॉलिसी दस्तावेजों को सावधानी से

  • मुझे कितने टर्म इंश्योरेंस की आवश्यकता है?

    विशेषज्ञों का सुझाव है कि टर्म कवरेज आपकी वार्षिक आय का कम से कम 10 गुणा होना चाहिए। 15-20 गुणा होना अधिक बेहतर रहेगा। अधिकतम वित्तीय सुरक्षा के लिए सुनिश्चित करें कि आपने अपने घर, कार, तथा व्यक्तिगत लोन हेतु अतिरिक्त लायबेलिटी कवर पर विचार किया है।

    उदाहरण के लिए यदि आपकी वार्षिक आय रु 10 लाख है, और कोई देयताएं नहीं है, तो रु 1 करोड़ का टर्म इंश्योरेंस आपकी आवश्यकताओं के लिए उचित रहेगा। अपने टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी में कार या होम लोन धनराशियों को अतिरिक्त कवर के रूप में जोड़ें।

  • क्या दो टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी लेना सही है?

    आपकी जरूरतों एवं देयताओं में बदलाव के साथ ही अतिरिक्त टर्म कवरेज लेने में कोई हानि नहीं है। आप एक समय में एक से अधिक टर्म इंश्योरेंस प्लान ले सकते हैं। वैसे यह सुनिश्चित करें कि आप अपने मौजूदा पॉलिसी विवरण को प्रकट करें, क्योंकि इसका प्रभाव नए टर्म कवर की पात्रता पर पड़ेगा।

  • क्या मैं अपने टर्म प्लान सम एश्योर्ड को बढ़ा सकता हूं?

    आपकी पॉलिसी के नियम एवं शर्तों के आधार पर आपकी पॉलिसी की अवधि के दौरान निश्चित अवसरों - विवाह, बच्चे का जन्म या गोद लेना, होम लोन आदि - पर आपके सम्बन्धित एश्योर्ड को बढ़ाया जाना सम्भव है।

  • क्या टर्म इंश्योरेंस प्लान में कर लाभ मिलता है?

    टर्म प्लान में कर लाभ मिलते हैं। आप आयकर अधिनियम की धारा 80C के अन्तर्गत कर छूट पा सकते हैं (रु 1.5 लाख तक)। अति-गम्भीर रोग कवर के लिए आप धारा 80डी के अन्तर्गत कर छूट पा सकते हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि पॉलिसी धारा की असामयिक मृत्यु की स्थिति में उसके परिजनों को मिलने वाली एकमुश्त धनराशि धारा 10 (10डी) के अन्तर्गत कर-मुक्त होती है।.