chief investment officer
AK Sridhar
Chief Investment Officer

Market Matters June 2020

Equity market indices rose sharply during the month. Market sentiments were lifted by the optimism surrounding opening of the economy post easing of the lockdown restrictions and the continued economic support provided by the government and central bank. Fixed income markets remained rangebound during the month.    

Domestically, geopolitical tensions rose as the Indo-China military stand- off continued along the Line of Actual Control (LAC) near Eastern Ladakh. Government also banned certain Chinese apps citing cybersecurity concerns. Government also initiated the process of ‘unlock down’ i.e. phase wise opening of the economy. Economic data viz., industrial production & manufacturing PMI continued to reflect the economic impact of pandemic outbreak. Trajectory of economic data continues to remain uncertain in the near term.

Markets rally over the past 3-4 years had been primarily driven by multiple expansion without accompanying earnings growth. Based on historical data (for domestic markets), PE ratios above 21x have always been considered as expensive and the markets had been hovering in that zone for past 3-4 years. COVID-19 has acted as a trigger for expensive valuations to correct and mean revert. Historically, post such a tectonic shift, new sectors typically emerge as market leaders. In the near term, growth revival would be contingent upon how the unlockdown progresses. Going ahead, the monsoon progress, trade war & geo political tensions, impact of the recent extraordinary policy response, reopening of supply chain linkages, corporate earnings trajectory / shock and crude / commodity price trajectory would be monitored.

Considering the risks and the uncertain economic growth trajectory in the medium term, market correction cannot be ruled out from current levels. Market volatility can be expected to rise but it can also provide attractive opportunities to accumulate quality stocks. A gradual increase in allocation towards equity can be considered with a 3 – 5 year perspective. Equity as an asset class has proven its ability to deliver superior returns in the long term.



अस्वीकरण: लिंक्ड बीमा उत्पाद पारम्परिक बीमा उत्पादों से भिन्न होते हैं तथा बाजार कारकों के विषयाधीन होते हैं। यूनिट लिंक्ड जीवन बीमा पॉलिसी में भुगतान किया जाने वाला प्रीमियम —  पूंजी बाजारों से सम्बद्ध निवेश जोखिमों के विषयाधीन होता है, तथा फंड के प्रदर्शन एवं पूंजी बाजार को प्रभावित करने वाले कारकों के आधार पर यूनिट्स की एनएवी में उतार या चढ़ाव आ सकता है, तथा बीमित व्यक्ति ही अपने निर्णयों के लिए जिम्मेदार है। इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड केवल बीमा कम्पनी का नाम है, तथा यह उत्पाद / प्लान के नाम किस भी तरह से बीमा संविदा, इसके भविष्य की सम्भावनाओं या प्रतिफलों को नहीं इंगित करते हैं। कृपया बीमा अभिकर्ता अथवा मध्यवर्ती या बीमा कम्पनी द्वारा जारी किए गए पॉलिसी प्रलेख की सहायता से सम्बद्ध जोखिमों तथा अनुप्रयोज्य प्रभारों के बारे में जानें। इस संविदा के अन्तर्गत प्रस्ताव किए जाने वाले विभिन्न फंड्स उन फंड्स का नाम होते हैं, तथा वे किसी भी तरह से उन प्लान की गुणवत्ता, उनकी भविष्य की सम्भावनाएं एवं प्रतिफल नहीं दर्शाते हैं। भूतकाल जैसा प्रदर्शन भविष्य में शायद ना हो, और यह किसी भी तरह से भविष्य के प्रदर्शन की गारन्टी नहीं है। इस प्रलेख की कुछ सामग्रियों में ऐसे वक्तव्य / आकलन / अपेक्षाएं / पूर्वानुमान हो सकते हैं, जो 'भविष्योन्मुखी (फॉरवर्ड लुकिंग)' हो सकते हैं। वास्तविक परिणाम इस प्रलेख में अभिव्यक्त / अन्तर्निहित परिणामों से काफी भिन्न हो सकते हैं। इन वक्तव्यों का उद्देश्य किसी व्यक्ति विशेष को व्यक्तिगत अनुशंसा प्रदान करना या किसी व्यक्ति की निवेश आवश्यकताओं को पूरा करना नहीं है। अनुशंसाएं / वक्तव्य / आकलन / अपेक्षाएं / पूर्वानुमान सामान्य प्रकृति के हैं, तथा उनमें किसी विशेष पॉलिसीधारक / ग्राहकों की विशिष्ट निवेश आवश्यकताओं अथवा जोखिम क्षमता अथवा वित्तीय स्थितियों को शायद ध्यान में ना रखा गया हो। जोखिम कारकों, नियमों एवं शर्तों के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया बीमा लेने से पहले उत्पाद विवरणिका को सावधानी से पढ़ें। कर लाभ कर कानूनों में होने वाले बदलावों के विषयाधीन हैं।