आर.एम. विशाखा - एमडी एवं सीईओ

आर.एम. विशाखा

एमडी एवं सीईओ

आर.एम. विशाखा मार्च 2015 से इंडियाफर्स्ट लाइफ की एमडी एवं सीईओ बनी हुई हैं। उनके सुदृढ़ नेतृत्व के अन्तर्गत कम्पनी ने एक महत्वपूर्ण वृद्धि दर हासिल की है और उद्योग-जगत की रैंकिंग में लगातार नई ऊंचाईयां हासिल की हैं। विशाखा प्रमुखता से, आगे बढ़कर से नेतृत्व करती हैं, उन्होंने कम्पनी के भूतपूर्व पार्टनर लीगल एवं जनरल की शेयरहोल्डिंग को वारबर्ग पिंकस के पास स्थानान्तरित करने का कार्य बहुत कुशलतापूर्वक किया है।

विशाखा को फॉर्च्यून इंडिया की व्यवसाय जगत की 50 "सबसे शक्तिशाली महिलाओं' में लगातार तीन वर्ष शामिल किया गया है (2017, 2018 एवं 2019)। उन्हें बिजनेस वर्ल्ड पत्रिका ने 'सबसे अधिक प्रभावशाली महिला' का खिताब भी दिया है। विशाखा की उपलब्धियों का सम्मान करते हुए आईसीएआई ने उनको सीए बिजनेस लीडर - महिला (2017) का सम्मानित पुरस्कार भी दिया है। विशाखा को फोर्ब्स इंडिया एवं बिजनेस टूडे जैसे प्रतिष्ठित प्रकाशनों द्वारा उद्योग-जगत में अपने समकक्षों के बीच में एक पथ-प्रदर्शक का खिताब दिया है।

विशाखा एक वैचारिक नेतृत्वकर्ता हैं, वह सीआईआई की पेंशन एवं बीमा सीमित की सह-अध्यक्ष (को-चेयर) हैं। वह राष्ट्रीय बीमा परिषद (एसोचैम), फिक्की की समिति सदस्य, तथा एआईडब्ल्यूएमआई द्वारा एक्सक्वालीफाई की चार्टर सदस्य भी हैं। वह एनआरबी बियरिंग प्राइवेट लिमिटेड के बोर्ड में एक स्वतंत्र निदेशक हैं। वह जीवन बीमा परिषद की कार्यकारी समिति में भी शामिल रही हैं।

विशाखा चिंतकों एवं नेतृत्वकर्ताओं की आगामी पीढ़ी का मार्गदर्शन करती हैं एवं परामर्श देती हैं। उनके कुछ प्रतिष्ठित मेंटरशिप एसोसिएशन में शामिल हैं — इंटरनेशनल इंश्योरेंस सोसायटी (आईआईएस) मेंटर प्रोग्राम, डब्ल्यूडब्ल्यूबी नवाचार के लिए नेतृत्व एवं विविधता कार्यक्रम, आरजीए भविष्य के नेतृत्वकर्ता तथा डब्ल्यूआईएलएल फोरम

विशाखा एक सनदी लेखाकार हैं, उनके पास कम्प्यूटर सिस्टम में परास्नातक डिप्लोमा है, और वह भारतीय बीमा संस्थान की फेलो भी हैं।

रुषभ गांधी - उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी

रुषभ गांधी

उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी

रुषभ एक गहरी सोच रखने रणनीतिकार हैं, इनके पास डिलीवरी में बहुत अच्छा अनुभव है, ये इंडियाफर्स्ट लाइफ के डेप्युटी सीईओ हैं, संगठन की वृद्धि के लिए इन्होंने अथक प्रयास किए हैं और एक प्रमुख भूमिका निभायी है। रुषभ वित्तीय सेवा क्षेत्र के एक प्रतिभाशाली नेतृत्वकर्ता हैं, राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय बाजारों में इनका 25 वर्षों से अधिक का शानदार ट्रैक रिकॉर्ड रहा है, इन्हें पुराने तौर-तरीकों पर प्रश्न उठाना पसंद है, और ये चुनौतियों को अवसर के रूप में देखना पसंद करते हैं। ये सीएससी ई-गवर्नेन्स सर्विसेज इंडिया लिमिटेड (भारत सरकार द्वारा प्रवर्तित) के बोर्ड में निदेशक भी हैं।

रुषभ ने अपने अनुभव एवं विशेषज्ञता की सहायता से इंडियाफर्स्ट लाइफ को वृद्धि के पथ पर प्रगतिशील बनाए रखा है। ये बैंकएश्योरेंस बिजनेस क्षेत्र में अपने श्रेणी का सर्वश्रेष्ठ क्रियान्वयन करने के द्वारा संगठन की वार्षिक प्रचालन योजना को लगातार डिलीवर कर रहे हैं, तथा इसके लिए इन्होंने मल्टीचैनल डिस्ट्रीब्यूटर रणनीति को सफलतापूर्वक अपनाया है। इनकी तीक्ष्ण व्यावसायिक कुशाग्रता तथा बीमा क्षेत्र की गहरी समझ ने इंडियाफर्स्ट लाइफ को 40% के पांच वर्षीय सीएजीआर पर वृद्धि करने में सहायता की है। सेल्स एवं डिस्ट्रीब्यूशन के अलावा रुषभ ने मार्केटिंग, उत्पाद, ग्राहक अनुभव, रणनीति, परिवर्तन प्रबन्धन एवं मानव पूंजी क्षेत्र में काम किया है। इंडियाफर्स्ट लाइफ में आधे दशक से अधिक की यात्रा में रुषभ ने संगठन को प्राइवेट बीमा कम्पनियों के खुदरा व्यवसाय में 12वें पायदान पर पहुंचाने में एक महत्वपूर्ण योगदान किया है।

एक दूरदर्शी नेतृत्वकर्ता, एक सेल्स नवप्रवर्तक एवं दृढ़ क्रियावन्यनकर्ता के रूप में रुषभ के पास व्यावसायिक रुझानों एवं अवसरों का पूर्वानुमान लगाने में सुस्पष्ट दूरदर्शिता है। उनके इस गुण ने उन्हें शानदार सफलता दिलायी है। अपनी भूतपूर्व भूमिका में उन्होंने इंडियाफर्स्ट लाइफ के सेल्स एवं मार्केटिंग फंक्शन का नेतृत्व किया है।

रुषभ के नेतृत्व में इंडियाफर्स्ट लाइफ ने उद्योगजगत के बहुत से प्रमुख पुरस्कार जीते हैं, जिसमें - ग्रेट प्लेस टू वर्क इंस्टीट्यूट द्वारा "बीएफएसआई में भारत का सर्वश्रेष्ठ कार्यस्थल" (2019 एवं 2020), "भारत के सबसे अधिक प्रशंसनीय ब्रांड 2019-20" (एनडीटीवी), सीएनएन न्यूज18 पर इंडियाफर्स्ट लाइफ को "भारत के प्रशंसित ब्रांड 2019" में फीचर किया गया, बीएफएसआई में उत्कृष्टता के इकोनॉमिक टाइम्स का "सर्वश्रेष्ठ ब्रांड्स 2018" पुरस्कार, तथा बीमा उत्कृष्टता हेतु राष्ट्रीय पुरस्कार '17 में "वर्ष का बैंकएश्योरेंस नेतृत्वकर्ता" समेत अन्य पुरस्कार शामिल हैं।

रुषभ इसके पहले कैनरा एचएसबीसी ओबीसी लाइफ इंश्योरेंस, अवीवा लाइफ इंश्योरेंस तथा बिड़ला सन लाइफ इंश्योरेंस में सेवा प्रदान कर चुके हैं। रुषभ को लोगों के साथ मिल-जुलकर काम करना पसंद है, ये काम की प्रक्रिया पर पूरा ध्यान देते हैं, इन्होंने इण्डोनेशिया में अवीवा लाइफ का रिटेल लाइफ इंश्योरेंस बिजनेस स्थापित करने में एक निर्णायक भूमिका निभायी है।

रुषभ ने इनसीड, फॉर्च्यूनब्यू में समूह विकासीय कार्यक्रमों को सफलतापूर्वक पूरा किया है, खासतौर पर वैश्विक नेतृत्वकर्ताओं के लिए क्यूरेट किया है। रूषभ नरसी मोंजी प्रबन्धन अध्ययन संस्थान (एनएमआईएमएस) से प्रबन्धन अध्ययन में परास्नातक भी हैं।

केदार पातकी - मुख्य वित्तीय अधिकारी

केदार पातकी

मुख्य वित्तीय अधिकारी

केदार पातकी के पास दो दशकों से अधिक लम्बे कैरियर का अनुभव है, इन्होंने बीमा उद्योग में कार्य करने के इतिहास का प्रदर्शन किया है। उन्होंने अपनी पेशेवर यात्रा का एक प्रमुख हिस्सा भारत और विदेशों में वित्त एवं प्रचालन के क्षेत्र में व्यतीत किया है, इनकी विशेषज्ञता नियोजन एवं बजटिंग, रणनीति, लेखांकन, कर, प्रबन्धन, ऑफशोरिंग एवं बीमा में है।

केदार इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस के साथ जुड़ने से पहले आईडीबीआई फेडरल लाइफ इंश्योरेंस में सीएफओ थे, तथा ये टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस, एएक्सए, बजाज एलायंज जनरल इंश्योरेंस तथा एकजो नोबल इंडिया जैसी कई कम्पनियों में सेवा प्रदान कर चुके हैं, जहां पर ये प्रमुख वित्तीय जिम्मेदारियों के अतिरिक्त विनियामक रिपोर्टिंग, निवेशक सम्बन्ध, तथा उद्योग संघ एवं मंचों के साथ सम्बन्ध जैसे क्षेत्रों को प्रबन्धित करते थे।

इंडियाफर्स्ट लाइफ में केदार के ऊपर संगठन के कराधान एवं निवेश प्रचालनों, प्लानिंग एवं बजटिंग, तथा आरंभ-से-अंत वित्त को प्रबन्धित करने की जिम्मेदारी है।

ये पुणे विश्वविद्यालय से वाणिज्य स्नातक हैं, तथा भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान के एक योग्य सनदी लेखाकार हैं।

सोनिया नोटानी - मुख्य मार्केटिंग अधिकारी

सोनिया नोटानी

मुख्य मार्केटिंग अधिकारी

सोनिया नोटानी इंडियाफर्स्ट लाइफ की संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। इंडियाफर्स्ट लाइफ में एक दशक से अधिक के अपने कैरियर में इन्होंने विभिन्न प्रकार्यों एवं क्षेत्रों में हर तरह की जिम्मेदारियां निभायी हैं। सोनिया वर्तमान समय में कम्पनी की मार्केटिंग, उत्पाद, ग्राहक अनुभव, पीआर, रणनीतिक गठबंधन, तथा डायरेक्ट एवं डिजिटल सेल्स प्रकार्यों का नेतृत्व करती हैं।

सोनिया को विश्व-विख्यात फॉर्च्यून पत्रिका के "40 वर्ष से कम आयु वाले 40 लोगों" की सूची में शामिल किया गया, जिसमें भारत के प्रमुख व्यवसायी व्यक्तियों की चर्चा की गई थी। इन्हें वर्ष 2019 में आईएएमएआई तथा आईप्रॉस्पेक्ट द्वारा ‘सुपर 30’ – सीएमओ ऑनर रोल में भी शामिल किया गया था, जिसमें इंडियाफर्स्ट लाइफ ब्रान्ड यात्रा के दौरान इनके योगदान को सम्मानित किया गया था। एसोचैम ने भारतीय बीमा क्षेत्र में सोनिया के योगदान का सम्मान करते इन्हें "बीमा में महिला नेतृत्वकर्ता - सीएसओ" पुरस्कार दिया था।

सोनिया एक वैचारिक नेतृत्वकर्ता के रूप में पैनल चर्चाओं में एवं अपने लेखों के माध्यम से अपने विचारों को प्रमुखता से सामने रखती हैं, और वार्तालाप-आधारित पारितंत्र का हिस्सा बनती हैं, तथा एक प्रमुख जोखिम संरक्षण साधन के रूप में जीवन बीमा के बारे में जागरुकता फैलाती हैं।

सोनिया इससे पहले आदित्य बिड़ला समूह, सिटीबैंक, रिलायंस एवं केपीएमजी के साथ काम कर चुकी हैं। सोनिया के पास बीएफएसआई क्षेत्र में गहन विशेषज्ञता है, ये वर्ष 2019 में इंडियाफर्स्ट लाइफ से जुड़ी हैं।

सोनिया के पास सैंट जैवियर कॉलेज से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री है और नरसी मोंजी प्रबन्धन अध्ययन संस्थान, मुम्बई से एमबीए की डिग्री है। इन्होंने वीमेन्स वर्ल्ड बैंकिंग एवं व्हार्टन (अमेरिका का पेनसिल्वैनिया विश्वविद्यालय) के नवप्रवर्तन हेतु नेतृत्व एवं विविधता कार्यक्रम को भी सफलतापूर्वक पूरा किया है।

अत्री चक्रवर्ती - मुख्य संचालन अधिकारी

अत्री चक्रवर्ती

मुख्य संचालन अधिकारी

अत्री चक्रवर्ती इंडियाफर्स्ट लाइफ के मुख्य संचालन अधिकारी हैं, ये व्यवसाय प्रचालन के समग्र विन्यास, क्रियान्वयन एवं प्रबन्धन को संभालते हैं। ये वितरण एवं शाखा प्रचालन, ग्राहक सेवा, नए व्यवसाय तथा जोखिम-अंकन एवं दावों के लिए जिम्मेदार हैं।

अत्री के पास बीएफएसआई सेक्टर में 26 वर्षों से अधिक का समृद्ध एवं विविधीकृत अनुभव है, इन्होंने बीमा क्षेत्र में 17 वर्षों से अधिक का समय समर्पित किया है। इन वर्षों के दौरान ये सेवा डिलीवरी का रुपान्तरण करने, प्रक्रिया उत्कृष्टता हासिल करने, डिजिटल रूपान्तरण को सुगम बनाने, कार्यक्रम प्रबन्धन का तालमेल बनाने, तथा विभिन्न संगठनों में अपने कार्यकाल के दौरान प्रचालन प्रबन्धन को संभालने में सफलतापूर्वक कार्य किए हैं।

इंडियाफर्स्ट लाइफ से जुड़ने से पहले अत्री ओकेयर हेल्थ इंश्योरेंस लिमिटेड के मुख्य संचालन अधिकारी थे, और उससे पहले टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड में 16 वर्षों से अधिक समय तक सेवा प्रदान किए हैं, जहां पर ये अंत में प्रचालन एवं सुविधाओं के ईवीपी एवं प्रमुख के रूप में संगठन को सेवा प्रदान कर रहे थे। इन्होंने सिटीबैंक इंडिया में सात वर्षों से अधिक समय तक कार्य किया है। इसके अलावा वह गुजरात लीज फाइनेंसिंग लिमिटेड एवं यूनाइटेड क्रेडिट फाइनेंशियल सर्विसेज के साथ भी जुड़े रहे हैं।

अत्री के पास बिड़ला प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान (बीआईटीएस), पिलानी से प्रबन्धन अध्ययन में परास्नातक डिग्री है।

प्यूली दास - प्रमुख एवं नियुक्त बीमांकक (एक्च्युरी)

प्यूली दास

प्रमुख एवं नियुक्त बीमांकक (एक्च्युरी)

प्यूली इंडियाफर्स्ट लाइफ में प्रमुख एवं नियुक्त बीमांकक (एप्वॉइंटेड एक्च्युरी) हैं। प्यूली के पास बीमांकिक प्रकार्यों, वित्तीय जोखिम विश्लेषण तथा रिपोर्टिंग, विनियामक तंत्र, अनुपालन आवश्यकताओं, तथा वित्तीय प्रक्रियाओं एवं प्रकार्यों की गहरी समझ है, वह भारत एवं विदेशों में बैंकिंग एवं बीमा क्षेत्रों में निवेश एवं बीमांकिक प्रकार्यों प्रदान की गई सेवाओं से प्राप्त अनुभव एवं विशेषज्ञता का प्रदर्शन करती हैं।

इंडियाफर्स्ट लाइफ से जुड़ने से पहले ये रिलायंस लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड में नियुक्त बीमांकिक थीं। प्यूली उससे पहले एचडीएफसी लाइफ, एक्साइड लाइफ (भूतपूर्व आईएनजी वैश्य लाइफ इंश्योरेंस) में वैधानिक मूल्यांकन, बीमांकन, एवं निवेश इकाईयों का नेतृत्व कर चुकी हैं।

प्यूली अपने कैरियर के शुरुआती वर्षों में यूएसए में थीं, जहां पर वे न्यू यॉर्क लाइफ इंटरनेशनल में कार्यरत थीं, वहां पर ये जीएएपी मूल्यांकन एवं वित्तीय रिपोर्टिंग से सम्बन्धित अन्य पहलुओं में सहायता करती थीं। प्यूली पहले ड्यूश बैंक में भी काम कर चुकी हैं, वहां पर ये प्राइवेट वेल्थ मैनेजमेन्ट विभाग में कार्यरत थीं, और उन्हें निवेश प्रबन्धन प्लेटफॉर्म में सहायता की हैं।

प्यूली को भारतीय बीमांकिक संस्थान से कई सम्मान मिले हैं, वह इस संस्थान की वरिष्ठ (फेलो) सदस्या हैं, तथा उनके पास भारतीय सांख्यिकीय संस्थान से परिमाणात्मक अर्थशास्त्र में परास्नातक डिग्री है।,

प्रवीण मेनन - चीफ पीपल ऑफिसर

प्रवीण मेनन

चीफ पीपल ऑफिसर

प्रवीण मेनन इंडियाफर्स्ट लाइफ में प्रतिभा प्रबन्धन, प्रदर्शन प्रबन्धन, संगठन विकास, प्रशिक्षण, इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं अधिप्राप्ति के लिए जिम्मेदार हैं।

प्रवीण वर्ष 2015 में कम्पनी से जुड़े हैं, ये लोगों के सदैव बदलते हुए आधुनिक युग के अभ्यासों को निगमित करने के लिए लगातार रणनीतिक योगदान करते रहते हैं। इसके माध्यम से वह एक सशक्त तथा प्रतिभा-उन्मुखी पारितंत्र निर्मित करना चाहते हैं, जहां पर लोगों के कौशल को बेहतर बनाया जा सके और उनका समग्र विकास हो सके।

प्रवीण इससे पहले आदित्य बिड़ला, एक्सिस बैंक, एसी नील्सन, आईडीबीआई फेडेरल लाइफ इंश्योरेंस, सिटीबैंक एवं एचएसबीसी में जैसी कम्पनियों में सेवा प्रदान कर चुके हैं। प्रवीण इन संगठनों में व्यवसाय लक्ष्यों को पूरा करने वाले उपयुक्त मानव अभ्यासों के माध्यम से कर्मचारी यात्रा के क्रमिक विकास को आगे बढ़ाने कार्य सफलतापूर्वक किए हैं।

प्रवीण एक वैचारिक नेतृत्वकर्ता हैं, वह पूरे देश में प्रमुख मंचों एवं अकादमिक संस्थानों में कर्मचारियों के प्रबन्धन तथा आकांक्षियों की बदलती हुई मांग के अनुरूप कार्य करने के बारे में सक्रिय रूप से अपने दृष्टिकोण प्रस्तुत करते रहते हैं।

प्रवीण वेलिंगकर प्रबन्धन संस्थान, नरसी मोंजी प्रबन्धन संस्थान, तथा टाटा समाज विज्ञान संस्थान के छात्र रहे हैं, और इनके पास व्यवसाय प्रबन्धन की डिग्री, वित्त में एमबीए, तथा उन्नत मानव संसाधन में एक परास्नातक डिग्री है।

सुनंदा रॉय - राष्ट्र प्रमुख (कंट्री हेड) – बैंक ऑफ बड़ौदा

सुनंदा रॉय

राष्ट्र प्रमुख (कंट्री हेड) – बैंक ऑफ बड़ौदा

सुनंदा रॉय बैंक ऑफ बड़ौदा क्षेत्र में इंडियाफर्स्ट लाइफ में बैंकएश्योरेंस सेल्स की प्रमुख हैं, ये एक सुदृढ़ और बेहतर ऑप्टिमाइज्ड बैंकएश्योरेंस चैनल का निर्माण करने के लिए जिम्मेदार हैं। अपनी क्षमता में वह इंडियाफर्स्ट लाइफ के पार्टनर बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा की देशभर में फैली शाखाओं में बीमा वितरण का नेतृत्व करती हैं।

सुनन्दा एक प्रबन्धन पेशेवर हैं और इनके पास गहन रणनीतिक एवं प्रचालनात्मक कुशाग्रता है, ये इससे पहले मोदी टेलस्ट्रा - एयरटेल, मैक्स न्यूयॉर्क लाइफ, एचएसबीसी बैंक, तथा कैनरा एचएसबीसी ओबीसी बैंक में कार्य कर चुकी हैं जहां पर इन्होंने दूरदर्शिता के साथ केन्द्रित क्रियान्वयन का प्रदर्शन किया है। इन्होंने स्टार्टअप चरण से लेकर महत्वपूर्ण वृद्धि के चरण तक में रेवेन्यू, लाभदेयता एवं बाजार हिस्सेदारी में संगठन की प्रगति का नेतृत्व किया है।

सुनन्दा विक्रय एवं वितरण, व्यवसाय विकास, राजस्व वृद्धि, तथा चैनल सम्बन्ध का नेतृत्व करती हैं, जो कि इंडियाफर्स्ट लाइफ द्वारा अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ उत्पाद एवं डिजिटलीकृत सेवा अनुभव प्रदान करने के प्रयासों के अनुरूप है।

सुनन्दा ने एमेरिटस प्रबन्धन संस्थान, सिंगापुर से सामान्य प्रबन्धन में परास्नातक डिप्लोमा पूरा किया है, और कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री हासिल की है। इनके पास अमेरिकी वित्तीय प्रबन्धन संस्थान, सिंगापुर से चार्टर्ड वेल्थ मैनेजर प्रमाणपत्र है, तथा भारतीय व्यवसाय विद्यालय, हैदराबाद से सामान्य प्रबन्धन प्रमाणपत्र है।

अंजना राव - चीफ स्ट्रैटेजी ऑफिसर

अंजना राव

चीफ स्ट्रैटेजी ऑफिसर

अंजना राव इंडियाफर्स्ट लाइफ में चीफ स्ट्रैटेजी ऑफिसर हैं, इनके ऊपर रणनीति पहलों की जिम्मेदारी है, तथा ये कम्पनी में एक उत्कृष्टता केन्द्र संचालित करती हैं। इसके पहले वह कम्पनी में परिवर्तन प्रबन्धन श्रेणी का नेतृत्व कर रही थीं, जिसमें वह कम्पनी की मूल्य शृंखला के डिजिटलीकरण समेत आरम्भ-से-अंत तक विक्रय प्रक्रिया एवं ऑटोमेशन, तथा नया व्यवसाय आरम्भ करने एवं जोखिम-अंकन प्रक्रियाओं के लिए जिम्मेदार थीं, तथा और भी दूसरे योगदान करती थीं।

अंजना भारतीय बीमा (जीवन एवं सामान्य) क्षेत्र में लगभग दो दशकों से कॉरपोरेट स्तर पर सेवा प्रदान कर रही हैं इनके पास परियोजना प्रबन्धन, परिवर्तन प्रबन्धन, तथा आईटी एवं प्रक्रिया का लाभ उठाने पर केन्द्रित व्यावसायिक रूपान्तरण में विशेषज्ञता है।

अंजना इंडियाफर्स्ट लाइफ से जुड़ने से पहले अर्नस्ट एंड यंग, ऑरेकल इंडिया, यूनिवर्सल सॉम्पो, एसबीआई जीवन बीमा, तथा आईसीआईसीआई प्रुडेन्शियल जीवन बीमा में कार्य कर चुकी हैं, जहां इन्होंने विभिन्न आईटी रूपान्तरण परियोजनाओं का नेतृत्व करने समेत सीएमएमआई क्रियान्वयन परियोजनाओं का नेतृत्व किया है।

अंजना के पास रायपुर विश्वविद्यालय से गणित विषय में विज्ञान स्नातक की डिग्री है। अंजना के पास परियोजना प्रबन्धन संस्थान से परियोजना प्रबंधन पेशेवर (पीएमपी) की डिग्री है, उन्होंने पंडित रविशंकर शुक्ला विश्वविद्यालय से मार्केटिंग एवं एचआर में एमबीए भी किया है।

शुभांकर सेनगुप्ता - कंट्री हेड - यूबीआई, एजेंसी एवं बिजनेस पार्टनरशिप

शुभांकर सेनगुप्ता

कंट्री हेड - यूबीआई, एजेंसी एवं बिजनेस पार्टनरशिप

शुभांकर सेनगुप्ता इंडियाफर्स्ट लाइफ में अल्टरनेट चैनल्स के राष्ट्र प्रमुख (कंट्री हेड) हैं, ये क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, ब्रोकिंग एवं कॉरपोरेट एजेन्सी, एजेन्सी के साथ संगठन में ग्रामीण माइक्रो चैनलों तथा डायरेक्ट सेल्स चैनल के साथ इंडियाफर्स्ट लाइफ के पार्टनरशिप व्यवसायों का नेतृत्व करते हैं। इस प्रकार ये कम्पनी के मूल (पैरेंट) बैंकों - बैंक ऑफ बड़ौदा तथा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से कहीं आगे बीमा पहुंच बढ़ाने की जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हैं।

शुभांकर एक अनुभवी पेशेवर हैं, जिसके पास 23 वर्षों से अधिक का अनुभव है, इन्होंने भारतीय जीवन बीमा क्षेत्र में 12 वर्षों से अधिक समय से सेवाएं प्रदान की हैं। शुभांकर के पास विभिन्न प्रकार के व्यवसायों का अनुभव रहा है, जिसमें कैडबरी, एचएसबीसी, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक तथा टाटा एआईए जैसी कम्पनियों का नाम शामिल है।

शुभांकर वितरण एवं सोर्सिंग एफ्लिएट्स तथा पार्टनर्स के नए व्यावसायिक चैनलों को स्थापित करने का नेतृत्व करते हैं, इनके पास विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में उपयुक्त चैनलों के मूल्यांकन एवं चयन में विशेषज्ञता है। शुभांकर के ऊपर विभिन्न चैनलों के माध्यम से इंडियाफर्स्ट लाइफ की पहुंच को बढ़ाने और बेहतर बनाने की जिम्मेदारी है, जिसमें तृतीय पक्ष वितरण, आंतरिक टीम, ब्रोकिंग, कॉरपोरेट एजेन्सीज, डायरेक्ट सेल्स टीम, आरआरबी तथा एजेन्सी भी शामिल हैं। शुभांकर का उद्देश्य जीवन बीमा को अंतिम स्तर तक पहुंचाना है, इनके पास ग्रामीण बाजारों की बहुत अच्छी समझ है, जिसकी सहायता से ये कस्टमाइज्ड वितरण विकल्पों को सक्षम बनाते हैं।

शुभांकर के पास भारतीय समाज कल्याण एवं व्यवसाय प्रबन्धन, पश्चिम बंगाल से व्यवसाय प्रबन्धन में एक परास्नातक डिप्लोमा है, इसके अलावा इन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री पूर्ण की है।

शंकरनारायणन राघवन - मुख्य प्रौद्योगिकी एवं डेटा अधिकारी

शंकरनारायणन राघवन

मुख्य प्रौद्योगिकी एवं डेटा अधिकारी

इंडियाफर्स्ट लाइफ में मुख्य प्रौद्योगिकी एवं डेटा अधिकारी के रूप में शंकरनारायणन आर (शंकर) संगठन में डिजिटल, डेटा एवं प्रौद्योगिकी क्रांतियों के लिए जिम्मेदार हैं। ये सूचना प्रौद्योगिकी एवं डेटा एवं एनालिटिक्स फंक्शन को प्रबन्धित करते हैं, जिसमें एप्लिकेशन, इन्फ्रा एवं आईटी सुरक्षा एवं एनालिटिक्स के पहलू शामिल हैं।

बीमा क्षेत्र में शंकर का कैरियर ढाई दशक से अधिक लम्बा है, शंकर ने भारत एवं विदेश में प्रौद्योगिकी एवं प्रचालन का नेतृत्व किया है। इनके पास डिजिटल एवं प्रौद्योगिकी कार्यान्वयन में विशेषज्ञता है।

शंकर इंडियाफर्स्ट लाइफ से जुड़ने से पहले जुबिली होल्डिंग लिमिटेड में महाप्रबन्धक - नवप्रवर्तन थे, जहां पर उनके ऊपर पांच पूर्वी अफ्रीकी देशों में डिजिटल नवप्रवर्तन करने की जिम्मेदारी थी। इससे पहले वे एक दशक से अधिक समय तक एगॉन लाइफ इंश्योरेंस में आईटी नवप्रवर्तन, आईटी रणनीति एवं प्लानिंग, तथा प्रचालन का नेतृत्व किए हैं। शंकर ने प्रौद्योगिकी जगत की प्रमुख कम्पनियों जैसे कि एचसीएल, सीएससी (वर्तमान में डीएक्ससी) एवं भारतीय जीवन बीमा निगम में कार्य किया है।

शंकर के पास भारतीदशन विश्वविद्यालय, तमिलनाडु से भौतिकी में स्नातक एवं एमबीए की डिग्री है। इन्होंने इण्डियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) से पीजीपीएमएक्स भी पूरा किया है।

डॉ. पूनम टंडन - मुख्य निवेश अधिकारी

डॉ. पूनम टंडन

मुख्य निवेश अधिकारी

डॉ. पूनम टंडन इंडियाफर्स्ट लाइफ की सबसे आरम्भिक सदस्यों में से एक रही हैं, इस समय ये इंडियाफर्स्ट लाइफ में निवेश प्रबन्धन फंक्शन का नेतृत्व कर रही हैं। पूनम एक पुरानी अनुभवी पेशेवर हैं, इनके पास बैंकिंग एवं वित्तीय सेवा क्षेत्र में वित्तीय बाजारों और निवेश प्रबन्धन का गहन अनुभव है।

इंडियाफर्स्ट लाइफ में पूनम एक दशक से जुड़ी हुई हैं, इन्होंने कॉरपोरेट ग्रुप बिजनेस, यूलिप में डेब्ट पोर्टफोलियो एवं पारम्परिक फंड, लिक्विडिटी मैनेजमेन्ट, पारम्परिक पोर्टफोलियो में ईक्विटी में निवेश हेतु एसेट आवंटन में विभिन्न पोर्टफोलियो प्रबन्धित किए हैं, और एसेट लायबेलिटी कमेटी (एएलसीओ) में योगदान दिया है।

वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में पूनम का 26 वर्षों से अधिक समय का एक शानदार कैरियर रहा है, इन्होंने इंडस्ट्रियल डेवेलपमेन्ट बैंक ऑफ इंडिया (आईडीबीआई) में अपने कैरियर की शुरुआत की और उसके बाद मेटलाइफ इंडिया इंश्योरेंस प्राइवेट लिमिटेड, पैटरनॉस्टर एलएलसी (लंदन स्थित स्टार्ट-अप पेंशन फंड), सिक्योरिटीज ट्रेडिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एसटीसीआई) में अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। अपनी प्रमुख उपलब्धियों के रूप में, पूनम ने वर्ष 2001 में कॉरपोरेट बॉण्ड्स डेस्क, और वर्ष 2004 में एसटीसीआई में स्वैप्स डेस्क स्थापित करने में प्रमुख भूमिका निभाई। ये डेस्क कॉरपोरेट बॉण्ड्स में अत्यधिक सक्रिय बन गए, तथा उसके साथ ही साथ कम्पनी के लाभ में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई।

पूनम ने वर्ष 2010 से 2012 के बीच में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सिक्योरिटीज मार्केट्स (एनआईएसएम) में विजिटिंग फैकल्टी के रूप में पढ़ाई हैं। इन्होंने आरबीआई के बैंकिंग ट्रेनिंग कॉलेज, एनएमआईएमएस (मुम्बई) और यूटीआई इंस्टीट्यूट ऑफ कैपिटल मार्केट्स में एवं अन्य संस्थानों में गेस्ट लेक्चर दिए हैं। पूनम ने दो पेपर लिखे हैं, जिन्हें फिक्स्ड इंकम श्रेणी में अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर पियर-रिव्यूड जर्नल्स में प्रकाशित किया गया है।

पूनम ने जीसस एवं मैरी कॉलेज, नई दिल्ली से बी.कॉम. (ऑनर्स) किया है, उसके बाद इन्होंने एक्सएलआरआई, जमशेदपुर से व्यवसाय प्रबन्धन में पीजीडी किया है। इन्होंने एनएमआईएमएस, मुम्बई से वित्तीय प्रबन्धन में पीएचडी हासिल की है।

SUNDER NATARAJAN - Chief Compliance & Risk Officer

SUNDER NATARAJAN

Chief Compliance & Risk Officer

Sunder Natarajan is the Chief Compliance & Risk Officer and oversees the risk, compliance, internal audit and legal functions at IndiaFirst Life. He is responsible for embedding the risk management framework along with the implementation of good corporate governance in the organisation.

His noteworthy achievements at IndiaFirst Life include spearheading the bancassurance distribution strategy for the company and helping build an integrated bancassurance model with partner banks. Additionally, he set up the sales training team and launched mobile learning for the sales and distribution partners.

Sunder’s work experience in the insurance industry spans for two decades with proven excellence across diverse functions including Sales, Customer Service, Strategy, Bancassurance, Customer Retention, Operations, Quality, Business planning, Training, Communication & Governance. He has also held stints at companies like Aviva Life, Royal Sundaram General Insurance & Ogilvy Public Relations Worldwide.

He is on the on the strategic advisory board of the Institute of Risk Management India Affiliate and is the Deputy Chair for the IRM India Regional Group.

Sunder holds a Bachelor of Commerce degree from the University of Madras and Post Graduate Diploma in Business Administration from NMIMS, Mumbai. He completed an Accelerated Leadership Program from Indian Institute of Management, Ahmedabad and is a Certified Member of the Institute of Risk Management, London.