पारम्परिक मनी सेविंग्स प्लान

आप जैसे आधुनिक लोगों के लिए जो परम्परा को महत्व देते हैं!

अब आप अपने सपनों को वास्तविकता में बदलने के साथ ही साथ अपने परिवार के भविष्य को सुरक्षित भी रख सकते हैं। आप जैसे लोग, जो जोखिम नहीं लेना चाहते हैं, खासतौर पर उनकी जरूरतों के अनुसार बनाए गए प्लान के साथ अपनी बचत यात्रा की शुरुआत करें।

जानें कि हमारे पारम्परिक बचत योजनाएं किस तरह से आपके परिवार के भविष्य के ध्यान रखने के साथ ही साथ आपके लक्ष्यों को पूरा करने में सहायता कर सकती हैं।

इंडियाफर्स्ट के पारम्परिक बचत प्लान को क्यों चुनें?

  • यह आपके धन को दीर्घकाल में अच्छा मूल्य प्रदान करता है

    एक पारम्परिक प्लान में निवेश करने आपको एक धन-संग्रह निर्मित करने में सहायता मिलती है, जो आपके जीवन लक्ष्यों एवं इच्छाओं को हासिल करने में मदद करता है।

  • वित्तीय सुरक्षा निर्मित करें

    अपनी बचत यात्रा की शुरूआत करें, और कुछ वर्षों के बाद यह एक बड़ी धनराशि का रूप ले लेगा। स्थिरता और सुरक्षा दोनों निर्मित करने के लिए पारम्परिक योजनाओं में निवेश करना एक अच्छा साधन है।

  • कर लाभ

    आप जिस प्रीमियम का निवेश करेंगे, वर्तमान आयकर कानूनों के अनुसार धारा 80सी तथा धारा 10 (10डी) के अन्तर्गत उस पर और उसकी परिपक्वता पर भी आपको कर लाभ मिलेगा।

विचार करने वाले कुछ कारक

  • अपने वित्तीय लक्ष्य निर्धारित करें

  • सही योजना चुनें

  • अपना निवेश लक्ष्य चुनें

भारत में किस प्रकार की बचत योजना तथा निवेश विकल्प हैं?


हमारे मन में प्रतिकूल समय के लिए बचत करने की भावना बचपन से बैठायी जाती है। बचपन में हमें गुल्लक में पैसे जमा करना सिखाया जाता था, अब बड़े होने के बाद हम अपनी कमाई का एक हिस्सा सावधि जमा में डालते हैं। समय बदलने के साथ हमें बचत का महत्व और भी अच्छे से समझ में आया है, हम यथासंभव अनुशासन के महत्व को भी समझते हैं।

आज, इस बात पर ध्यान दिया जाता है कि आप अपने पैसे से पैसा कमाएं, ताकि आपको उससे अधिकतम सम्भव लाभ मिल सके। निवेश करने से पहले आपके लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपके पास भारत में कौन से प्रकार की बचत योजना तथा निवेश विकल्प उपलब्ध हैं। चूंकि हमारे देश में बहुत ये योजना उपलब्ध हैं, ऐसे में लोग दुविधा में फंस जाते हैं। आपके वित्त को प्रबन्धित करने का अर्थ यह सुनिश्चित करना है कि आपकी वर्तमान जरूरतें पूरी जाएं और उसके साथ ही साथ आप अपनी भविष्य की जरूरतों और इच्छाओं को पूरा करने के लिए योजना बना सकें। आपको अपनी जोखिम लेने की क्षमता पर भी विचार करना होगा। सही निवेश विकल्प वह होता है, जिसमें आपकी सभी जरूरतें एक ही बात में पूरी हो सकें।पलब्ध हैं।

भारत में उपलब्ध निवेश विकल्पों की एक स्थूल विवरण इस प्रकार है: अगर जोखिम की बात की जाए, तो आपके बचत बैंक खाते से ब्याज कमाना अथवा पैसे को सावधि जाम में डालना कम जोखिम वाले विकल्प माने जाते हैं। हालांकि ये बचत करने के सबसे प्रभावी तरीके नहीं हैं, क्योंकि उनमें कम जोखिम तो होता है लेकिन आपको कम प्रतिफल (रिटर्न), मामूली वृद्धि और कर एवं मुद्रास्फीति का भी सामना करना पड़ना है। हो सकें।

पीपीएफ (लोक भविष्य निधि) तथा एनएससी (राष्ट्रीय बच प्रमाणपत्र) में कर लाभ मिलते हैं लेकिन उसमें धन एक निश्चित समय अवधि के लिए बंध जाता है।

म्युच्युअल फंड्स में आपके पास कम जोखिम वाले डेट फंड्स से लेकर उच्च जोखिम वाले ईक्विटी फंड्स तक के विभिन्न विकल्प होते हैं। आपके धन की वृद्धि के लिए अधिक जोखिम वाले विकल्प भी होते हैं। 

पारम्परिक बीमा योजना में निवेश के साथ ही साथ जीवन सुरक्षा का पहलू भी शामिल होता है। एक समझदारीपूर्ण बचत योजना वह है, जिसमें आपके परिवार का वित्तीय भविष्य सुरक्षित हो और उसके साथ ही साथ आपको समय-समय पर डिवीडेंड भी मिलता रहे।

कौन सी बचत योजनाएं हैं?


सही बचत पॉलिसी आपके सपनों को सच्चाई में बदल सकती है, और उसके साथ ही आपके परिवार के भविष्य को भी सुरक्षित रख सकती है, यहां तक कि आपकी अनुपस्थिति में भी। बचत योजना सुरक्षा-सह-निवेश पॉलिसी होती हैं, जिन्हें अनुशासनात्मक एवं आवधिक बचत में सहायता करने के लिए डिजाइन किया गया होता है। वे यह भी सुनिश्चित करती हैं कि आपको पॉलिसी की अवधि के दौरान स्थिर प्रतिफल भी मिलता रहे।

एक पारम्परिक जीवन बीमा उत्पाद के रूप में, एक बचत पॉलिसी आपको लाइफ कवर भी प्रदान करती है, जिसमें दूसरे अनेक लाभ के लिए आप राइडर भी जोड़ सकते हैं। जब आप विभिन्न प्रकार के बचत योजनाओं में से चुन रहे हों, तो कृपया सुनिश्चित करें कि आपने ऐसी बचत योजना चुना हो जिसमें प्रतिस्पर्धात्मक सुविधाएं हों, तथा वैकल्पिक राइडर हों जैसे कि मृत्यु लाभ, अति-गम्भीर रोग राइडर तथा देयता कवर।

एक ऐसी पॉलिसी जिसमें बचत के साथ ही साथ जीवन बीमा भी हो, वह आपके लिए सर्वश्रेष्ठ हो सकती है—यह कम जोखिम अभिरुचि वाले लोगों की जरूरत के अनुसार बनाई गई योजना के साथ आपकी बचत यात्रा आरम्भ करने में सहायता कर सकती है। भारत में पारम्परिक जीवन बीमा बचत योजनाओं के विकल्प इन श्रेणियों में आते हैं:

एंडावमेन्ट बचत योजना

एक एंडावमेन्ट योजना आपको एक समय अवधि के दौरान अपने धन की बचत करने की सुविधा प्रदान करती है, साथ ही आपको जीवन बीमा का लाभ प्रदान करती है। ऐसी योजना में आपको आमतौर पर, जब बीमित व्यक्ति योजना में कवर की गई अवधि तक जीवित रहता है तो उसे परिपक्वता पर एक एकमुश्त भुगतान मिलता है। यदि इस अवधि के दौरान पॉलिसी धारक की असामयिक मृत्यु हो जाए, तो ऐसे में नामिती / लाभार्थियों को पॉलिसी में बीमाधन (सम एश्योर्ड)मिलती है।

एंडावमेन्ट योजनाएं दो प्रकार की हो सकती हैं, जो इस बात पर निर्भर करता है कि बीमा कम्पनी इसके लाभ के एक हिस्से को प्रतिफल (रिटर्न‍) के रूप में प्रदान कर रही है या नहीं। प्रॉफिट एंडावमेन्ट प्लान में, कम्पनी आपके भुगतान किए गए प्रीमियम के निवेश से जो लाभ अर्जित करती है उसमें से एक हिस्से का आपको भुगतान करती है। ये योजनाएं तुलनात्मक रूप से महंगी होती हैं, क्योंकि इसमें आपको योजना की अवधि के दौरान बोनस के रूप में अधिक प्रतिफल मिलने की सम्भावना होती है। एक लाभ-रहित योजना में कम प्रीमियम  लिया जाता है, परन्तु उसमें बीमा कम्पनी आपके प्रीमियम के निवेश पर अर्जित लाभ में कोई हिस्सा आपको नहीं प्रदान करती है।

धन-वापसी बचत योजना

कुल मिलाकर मनी-बैक पॉलिसी काफी हद तक एंडावमेन्ट प्लान के सदृश होती हैं। उनमें एक पारम्परिक जीवन बीमा कवरेज के साथ ही साथ एक सुव्यवस्थित बचत शेड्यूल होता है। उनमें और एंडावमेन्ट योजनाओं में एक प्रमुख अंतर - पे-आउट का मोड होता है।

धन-वापसी योजना में परिपक्वता पर एकमुश्त धनराशि के बजाय आपको प्रत्येक कुछ वर्षों पर आवधिक रूप से पे-आउट प्रदान किए जाते हैं। ऐसे लोगों के लिए बहुत अच्छा विकल्प है, जिनके पास लगातार कुछ खर्चे बने रहते हैं, क्योंकि यह आपको कुछ वर्षों तक बचत करने की सुविधा देता है और सही समय पर आपको धन प्रदान करता है।

एक एंडावमेन्ट पॉलिसी में आपको जब बीमाधन (सम एश्योर्ड) का भुगतान किया जाएगा, तो योजना के परिपक्वता तक पॉलिसीधारक के जीवित रहने की स्थिति में पहले ही भुगतान किए जा चुके पे-आउट की कटौती उस बीमाधन (सम एश्योर्ड) में से की जाती है। वहीं मनी-बैक पॉलिसी में, बीमित व्यक्ति के जीवित ना रहने की स्थिति में लाभार्थियों को बीमाधन (सम एश्योर्ड) का एक पूर्ण पे-आउट किया जाता है, भले ही पालिसी धारक को पहले ही आवधिक भुगतान किए जा चुके हों। ये फ्लेक्सिबल बचत पॉलिसी एक पसंदीदा बीमा-सह-बचत विकल्प हैं, क्योंकि ये तरलता, सुरक्षा एवं लाइफ कवर प्रदान करती हैं।

यूलिप (यूनिट-लिंक्ड बीमा योजना)

यदि आप ऐसे मार्केट-लिंक्ड बीमा विकल्प खोज रहे हैं, जो किफायती एवं विविधतापूर्ण हैं, तो एक यूलिप या यूनिट-लिंक्ड बीमा योजना आपके लिए उपयोगी हो सकता है। यूलिप में जीवन बीमा एवं निवेश का दोहरा लाभ प्रदान किया जाता है, यूलिप को आपकी जोखिम अभिरुचि के अनुसार कॉन्फिगर किया जा सकता है।

बचत योजनाओं में निवेश करने के कौन से लाभ हैं?


पारम्परिक बीमा योजना पॉलिसी का एक प्रमुख लाभ यह है कि में एक सुनिश्चित आय की गारंटी होती है। आपको परिपक्वता पर एक सुनिश्चित आय, मासिक आय पे-आउट, तथा बोनस का लाभ मिलता है, वहीं एक सुव्यवस्थित तरीके से बचत भी होती रहती है।

एक सही बचत पॉलिसी के साथ आप एक वित्तीय पोर्टफोलियो बना सकते हैं, जिसमें आपकी वर्तमान, भविष्य और यहां तक कि आपकी अनुपस्थिति के दौरान की आपकी वित्तीय चिंताओं का ध्यान रखा जा सकता है।

बीमा एवं बचत

एक सुनिश्चित बचत योजना में जीवन बीमा जोड़ने पर आपको अपने वर्तमान वित्तीय स्वास्थ्य एवं अपने परिवार का भविष्य सुरक्षित करने का एक अच्छा माध्यम मिल जाता है। 

किन्हीं भी परिस्थितियों में बचत योजनाएं

जहां एक शुद्ध सुरक्षा योजना एक समर्पित जीवन बीमा उत्पाद होता है, वहीं एक पारम्परिक बीमा बचत योजना एक दोहरा उद्देश्य पूरा करता है। आपको ना केवल जीवन सुरक्षा मिलती है, बल्कि आप पॉलिसी की परिपक्वता पर अपने निवेश पर एक सुनिश्चित प्रतिफल भी पा सकते हैं।

फ्लेक्सिबल अवधि

एक बचत पॉलिसी एक फ्लेक्सिबल बीमा एवं निवेश उत्पाद होता है। आप जो प्लान चुनते हैं, उसके आधार पर आप एक ऐसी पॉलिसी अवधि चुन सकते हैं जो अल्पकाल एवं दीर्घकाल में आपकी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा कर सकती है।

निश्चित प्रीमियम अवधि

आप जो योजना चुनते हैं, उसके आधार पर आप प्रीमियम भुगतान की एक निश्चित अवधि चुन सकते हैं। इस प्रकार आपको केवल एक निश्चित अवधि तक एक निश्चित भुगतान करना होगा, और आपको पूरी पॉलिसी अवधि के दौरान आवधिक पे-आउट मिलते रहेंगे।

अतिरिक्त राइडर्स

उन्नत राइडर समेत प्रीमियम का अधित्याग एवं असाध्य रोग राइडर आपकी जरूरत के अनुसार आपकी बचत योजना को और भी आकर्षक बना सकते हैं।

पे-आउट का विकल्प

बचत योजनाएं एक वित्तीय नियोजन माध्यम हैं। इन पारम्परिक बीमा योजनाओं की सहायता से आप अपनी भविष्य की जरूरतों का पूर्वानुमान लगा सकते हैं, एकमुश्त मिलने वाली राशि के सर्वश्रेष्ठ उपयोग सम्बन्धी निर्णय ले सकते हैं, और अपने पे-आउट को किश्तों में ले सकते हैं ताकि आपको आपकी जरूरत के समय धन मिलता रहे। आप मासिक, वार्षिक एवं आवधिक किश्तों में पे-आउट पाने का विकल्प चुन सकते हैं।

कर लाभ

एक सुनिश्चित आय योजना में वर्तमान कर कानूनों के अनुसार भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम एवं प्राप्त किए जाने वाले लाभों पर कर लाभ उपलब्ध हो सकते हैं।

अतिरिक्त बोनस

एक सुनिश्चित बचत प्लान आपको एक सरल दावा-प्राप्य बोनस से लेकर टर्मिनल बोनस तक बहुत से अतिरिक्त लाभ प्रदान कर सकता है। आपकी पॉलिसी प्रलेख में सुसंगत विवरण दिए गए होंगे।गे।

पॉलिसी लोन विकल्प

जब कोई बचत पॉलिसी अपनी सरेंडर वैल्यू पर पहुंच जाती है, तो आप उसके विरुद्ध एक लोन ले सकते हैं। दूसरे लोन की तुलना में पॉलिसी लोन में सर्वश्रेष्ठ ब्याज दर मिलती है। यदि आपको किसी आपातकालीन स्थिति में धन चाहिए, तो ऐसे में पॉलिसी लोन का विकल्प आपको एक कम समय में धन की व्यवस्था करने में सहायता कर सकता है।

बचत योजनाओं में किसे निवेश करना चाहिए?


प्रतिकूल समय के लिए बचत करने की आदत सभी लोगों को जरूर विकसित करनी चाहिए। चाहे आप विवाहित हों या अविवाहित, युवा हों या वृद्ध, धन की बचत करना हर किसी की आवश्यकता है। आप अपने धन की बचत कैसे करते हैं यह निर्णय आपके हाथ में है—चाहे आप उसे अपने बैंक खाते में निष्क्रिय छोड़ दें, अथवा किसी बचत योजना में निवेश करें, जिसमें आपके द्वारा संचित किए जाने वाले धन-संग्रह को जोखिम रहित तरीके से प्रयोग किया जाए। अपनी वित्तीय आवश्यकताओं के लिए समझदारीपूर्ण निर्णय लें।

निम्न स्थितियों में एक पारम्परिक जीवन बीमा बचत योजना आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है:

  • आप एक बड़ी धनराशि संचित करना चाहते हैं, जो आपके परिवार का वित्तीय भविष्य सुनिश्चित करेगी, यहां तक कि आपकी अनुपस्थिति में भी।
  • आप भविष्य में उपयोग के लिए एक निश्चित धन-संग्रह जमा करना चाहते हैं।
  • आप एक अनुशासित एवं सुव्यवस्थित तरीके से बचत करना चाहते हैं।
  • आप चाहते हैं कि आपकी बचत आपके पास एक नियमित आय के रूप में वापस आए।
  • आप ऐसा जीवन बीमा कवरेज चाहते हैं जो आपके जीवन का बीमा करने से कहीं अधिक काम करे।

आप अपने लिए कैसे सर्वश्रेष्ठ बचत योजना चुन सकते हैं?


भारत में सर्वश्रेष्ठ बचत योजनाओं में से चुनने के लिए आपको पहले अपनी वित्तीय आवश्यकताओं, आशाओं एवं जोखिम क्षमता को समझना होगा। आपके लिए ईष्टतम पारम्परिक बीमा योजना चुनने के कुछ चरण इस प्रकार हैं: 

अपने वित्तीय लक्ष्य निर्धारित करें

जीवन का प्रत्येक चरण भिन्न होता है, और आपकी प्राथमिकताएं भी समय के साथ बदलती जाती हैं। अपने अल्प-कालिक एवं दीर्घकालिक लक्ष्यों, और उन्हें हासिल करने में लगने वाले समय को समझना महत्वपूर्ण है।

अपनी वित्तीय आवश्यकताओं की एक सूची बनाएं—आज के लिए, अल्प काल के लिए, तथा अपने जीवन के आगे के चरणों के लिए। इसकी सहायता से आप यह निर्धारित कर सकेंगे कि आप भविष्य में जितना धन चाहते हैं, उसके लिए आपको वर्तमान में कितनी बचत करने की आवश्यकता है।

प्लान, राइडर, एवं निधि उपयोग के बारे में पूरी जानकारी रखते हुए निर्णय ले

ऐसे पारम्परिक बीमा योजनाएं चुनना महत्वपूर्ण है, जो आपके वर्तमान जीवन चरण के अनुरूप हों, और जहां आप दीर्घकाल में पहुंचना चाहते हैं। आप अपनी बचत योजनाओं में चुनी जाने वाली अवधियों को समझें। सभी समावेश एवं अपवर्जनों को जानने लिए सभी नियमों एवं शर्तों को बारीकी से पढ़ें, ताकि आप पूरी जानकारी रखते हुए निर्णय ले सकें।

प्रतिस्पर्धात्मक सुविधाएं चुनें, जो आपकी भविष्य की जरूरतों को पूरा कर सकें। सुनिश्चित करें कि आपकी चुनी गई बचत योजना आपको किसी आपातकालीन स्थिति में आपकी निधियों का उपयोग करने की फ्लेक्सिबिलिटी प्रदान करे। निधियों के विरुद्ध लोन पाने की सुविधाओं की जांच करें। साथ ही सही राइडर चुनने के द्वारा अपनी लाइफ कवरेज के अधिकतमीकरण पर विचार करें।

अपना निवेश लक्ष्य चुनेंष्य

आपके दीर्घकालिक लक्ष्यों एवं वित्तीय आवश्यकताओं के अनुरूप आपका निवेश अवधि सेट करने पर आपको सही योजना चुनने में सहायता मिलती है। साथ ही निवेश अवधि ध्यान में रखते हुए आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपका कवर आपकी जरूरत के समय उपलब्ध हो।

आपके पास उपलब्ध पारम्परिक बीमा योजनाओं की समीक्षा करें, और अपने वित्तीय पोर्टफोलियो को विविधीकृत करें। यदि आपकी उच्च जोखिम क्षमता है, तो अपने निवेश को विविधीकृत करें और उसमें पारम्परिक बचत योजनाओं के साथ ही साथ यूलिप शामिल करें, जो उच्चतर रिटर्न प्रदान करें।

इंडियाफर्स्ट लाइफ कौन सी बचत योजनाएं प्रदान करता है?


आपकी सुरक्षा एवं बचत जरूरतें चाहे जो भी हों, इंडियाफर्स्ट लाइफ के पास एक समाधान है। हमारे द्वारा प्रदान की जाने वाली विभिन्न प्रकार की पारम्परिक जीवन बीमा बचत योजनाओं को जानें:

(प्रत्येक प्लान एक अलग कार्ड पर होगा, जिसमें "अधिक पढ़ें" लिखा होगा और उत्पाद पेज का लिंक होगा)

इंडियाफर्स्ट लाइफ कैश बैक प्लान

  • नियमित अंतराल पर सुनिश्चित पे-आउट
  • सुनिश्चित मासिक पे-आउट
  • सीमित प्रीमियम भुगतान के साथ दीर्घकालिक निवेश के लाभ 
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट महाजीवन प्लान

  • पार्टिसिपेटिंग नॉन-लिंक्ड एंडावमेन्ट प्लान
  • सुनिश्चित परिपक्वता राशि
  • घोषित किया जाने वाला कोई दावा-प्राप्य बोनस तथा दावा-प्राप्य बोनस
  • प्रीमियम राइडर अधित्याग का विकल्प
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट सिम्पल बेनिफिट प्लान

  • सुनिश्चित परिपक्वता धनराशि + बोनस (यदि कोई)
  • सरेंडर वैल्यू के 90% तक का लोन!
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट लाइफ गारन्टीड मंथली इंकम प्लान

  • नॉन-लिंक्ड, पार्टिसिपेटिंग, सीमित प्रीमियम योजना
  • बीमा-अवधि पूर्ण होने के बाद सुनिश्चित मासिक पे-आउट
  • वैकल्पिक गैप वर्ष
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट स्मार्ट पे प्लान

  • सर्वश्रेष्ठ तरलता + लाइफ कवर
  • छोटी भुगतान अवधि
  • उत्तरजीविता लाभ के रूप में अपने एक वार्षिक प्रीमियम का 103% वापस पाएं।
  • प्रीमियम राइडर अधित्याग का विकल्प
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट लाइफ लॉन्ग गारन्टीड इंकम प्लान

  • नियमित सुनिश्चित आय
  • निश्चित 20 वर्षों तक सुनिश्चित पे-आउट हेतु निश्चित आय विकल्प
  • 99 वर्ष की आयु तक सुनिश्चित आय का विकल्प
  • भुगतान किए गए कुल प्रीमियम की वापसी
  • अधिकतम लाभों के लिए राइडर विकल्प
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

इंडियाफर्स्ट लाइफ गारन्टीड बेनिफिट प्लान

  • पूर्णतया कस्टमाइज्ड लाभ—आय, पॉलिसी अवधि, प्रीमियम भुगतान अवधि
  • आय लाभ विकल्प
  • प्रीमियम राइडर अधित्याग का विकल्प
  • वर्तमान कर कानूनों के अन्तर्गत कर लाभ

प्राय: पूछे जाने वाले प्रश्न

  • एक बचत योजना कैसे मेरी सहायता कर सकता है?

    कुछ लोग एक सुरक्षा-उपाय (सेफ्टी नेट) के रूप में धन की बचत करते हैं, वहीं कुछ लोग निवेश करने के लिए धन की बचत करते हैं, और अपने धन को वृद्धि करता हुए देखते हैं। मार्केट-लिंक्ड फंड्स में हमेशा फंड वैल्यू में उतार-चढ़ाव आने की चिंता बनी रहती है। एक बचत योजना, लाइफ कवरेज एवं निवेश का परिपूर्ण सम्मिश्रण है। इसके अतिरिक्त, आप अस्थिर बाजार स्थितियों के बारे में चिंता किए बिना अपने जीवन के महत्वपूर्ण लक्ष्यों के लिए बचत कर सकते हैं, क्योंकि पारम्परिक जीवन बीमा योजनाएं शेयर बाजार के साथ लिंक्ड नहीं होती हैं।t.

    अधिकांश योजनाओं में पॉलिसी के विरुद्ध लोन दिया जाता है, और आंशिक आहरण सुविधा भी मिलती है। पारम्परिक जीवन बीमा योजनाओं द्वारा प्रदान किए जाने वाले नियमित पे-आउट आपकी जरूरत के समय एकमुश्त धनराशि की भूमिका निभाते हैं। इंडियाफर्स्ट लाइफ बचत योजनाओं के साथ, आप अपने धन को वृद्धि करते हुए देख सकते हैं और उसके साथ मिलने वाले व्यापक लाइफ कवरेज की मन की शांति का आनंद उठा सकते हैं।

  • क्या बीमा एवं बचत का संयोजन करना एक अच्छा विचार है?

    जब आप अपने वर्तमान खर्चों का भुगतान कर लें, तो बची हुई धनराशि बचत एवं निवेश में प्रयोग करें। इस प्रकार आप अपने परिवार के वर्तमान एवं भविष्य को सुरक्षित करने की आशा कर सकते हैं। मुद्रास्फीति एवं बढ़ते हुए खर्चों को ध्यान में रखते हुए यह सुनिश्चित करना कठिन है कि क्या आपने अपने परिवार की वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त धनराशि जमा कर ली है।

    आप अपने भविष्य के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सक्रिय रूप से निवेश कर सकते हैं। वैसे, असामयिक मृत्यु की स्थिति में इन निधियों को प्राय: तरलीकृत या आहरण कर लिया जाता है, ताकि आपका परिवार अपनी जरूरतों को लगातार पूरा करता रह सके।

    असामयिक मृत्यु की स्थिति में अच्छे से अच्छा निवेश भी सहायता नहीं कर सकता। यहां पर एक पारम्परिक बचत योजना में बीमा और निवेश / बचत के संयोजन की बात आती है—ना केवल आप बचत करेंगे, बल्कि आपके पास मन की शांति होगी कि आपकी अनुपस्थिति में भी आपके परिवार का ध्यान रखा जाएगा।

  • पारंपरिक बचत योजनाओं में किसे निवेश करना चाहिए?

    .

    एक बचत योजना में, आपको एक पूर्व-निश्चित वर्षों तक निश्चित अंतराल पर एक पूर्व-निर्धारित धनराशि निवेश करनी होगी। जिनके पास नियमित आय होती है और भविष्य में कुछ खर्च आने वाले हैं, उन्हें भारत में पारम्परिक जीवन बीमा बचत योजनाओं में निवेश करना चाहिए। जिन लोगों के पास दीर्घ-कालिक दायित्व और देयताएं होती हैं, जैसे कि व्यावसायिक स्वामी, काम करने वाले प्रोफेशनल, अभिभावकों, स्व-नियोजित लोग जिन्हें सुरक्षा चाहिए, तथा युवा प्रोफेशनल को भी बचत योजना पर विचार करना चाहिए।

    सुव्यवस्थित शेड्यूल आपको वित्तीय रूप से अधिक अनुशासित बनने में सहायता कर सकता है। जो लोग जोखिम नहीं लेना चाहते हैं और सुरक्षित उत्पादों में निवेश करना चाहते हैं, उनके सभी प्रश्नों का उत्तर एक पारम्परिक जीवन बीमा योजना है।

  • मुझे प्रत्येक महीने कितने पैसे बचाना चाहिए?

    .

    हालांकि यह एक व्यक्तिपरक प्रश्न है, लेकिन पैसे की बचत करना एक अपरिहार्य मासिक वित्तीय लक्ष्य होना चाहिए। यह अनुशंसित किया जाता है कि आपकी कुल मासिक मासिक आय के कम से कम 20% हिस्से को बचत के रूप में अलग रखा जाना चाहिए। एक वित्तीय पोर्टफोलियो में आपकी वार्षिक आय का 10 गुणा धनराशि रखना एक अच्छा लक्ष्य हो सकता है।

  • क्या एक बचत योजना एक सेवानिवृत्ति नियोजन के लिए अच्छा विचार है?

    .

    सफल सेवानिवृत्ति नियोजन के लिए बचत योजना खरीदना एक अच्छा तरीका है। एक पारम्परिक जीवन बीमा बचत योजना में, आप कुछ समय के लिए अपना धन निवेश करेंगे, और आने वाले वर्षों में उनका लाभ उठाएंगे। यह खासतौर पर उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है, जिनके पास कोई दायित्व है, विधवा महिलाएं, अथवा जो लोग अपने सेवानिवृत्ति की योजना बना रहे हों। इंडियाफर्स्ट लाइफ प्लान के आवधिक पे-आउट तथा मासिक आय विकल्प सेवानिवृत्ति के बाद आपकी वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं।

  • एक बचत योजना आरम्भ करने के लिए सही आयु क्या है?

    .

    जब वित्तीय उत्पादों में निवेश करने की बात आती है तो आप जितनी जल्दी शुरुआत करें, उतना ही बेहतर रहेगा। चक्रवृद्धि की शक्ति यह सुनिश्चित करती है कि यहां तक कि जब आप पर्याप्त लम्बे समय तक छोटी-छोटी धनराशि निवेश करते हैं, तो उसमें आपको अपनी अपेक्षा से काफी अधिक प्रतिफल मिल सकता है। जब आप जल्दी निवेश करेंगे, तो आप अपने धन को चक्रवृद्धि ब्याज संचित करने के लिए पर्याप्त समय देंगे। भविष्य में आपकी वित्तीय सुरक्षा के लिए प्रत्येक छोटा-बड़ा योगदान मायने रखता है—आप जहां हैं और आपके पास जो भी हैं, वहां से और उतने से शुरुआत करें।

  • क्या बचत योजनाओं में कर लाभ मिलता है?

    .

    पारम्परिक बीमा योजनाओं और बचत योजनाओं में आप जिस प्रीमियम का निवेश करेंगे, वर्तमान आयकर कानूनों के अनुसार धारा 80सी तथा धारा 10 (10डी) के अन्तर्गत उस पर और उसकी परिपक्वता पर मिलने वाले बीमाधन (सम एश्योर्ड) पर भी आपको कर लाभ मिलेगा।

यह उत्पाद कैसे आपकी मदद कर सकता है, इस बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं

हमारे वित्तीय पेशेवर आपको वापस बुलाओ

This field is required and must conatain 10 numeric digits.
CAll BACK